relation ke kitne din baad pregnancy hoti hai

बच्चा होने के बाद कितने दिन बाद पीरियड आना चाहिए? Dr.Kaushal Bhardwaj, Apr 08, 2018 Roshni ji hum aapko yeh salah denge ki aap jab tak aap puri tarah se thik nahin ho jaati tab tak sex na karen jab tak ki aapke andruni ghaav na bhar jaayen tab tak sex se dur rahen. Aisa isliye hota hai kyunki male sperms sex karne ke 7 din baad tak zinda rah sakte hai. समीक्षक: Dr. Nidhi Nikunj. Sex karne ke baad ek bhi boond kafi hota hai sperm ka mahila ko pregnant karne ke liye. Please read our Disclaimer. इसकी प्रक्रिया और लागत, गर्भावस्था में जिंक क्यों है जरूरी व कमी के लक्षण | Pregnancy Mein Zinc Ki Kami, डॉक्टर की देखरेख में थोड़ा-थोड़ा व्यायाम करें।, पेट में हल्के दर्द के लिए डॉक्टर से बात करके पैन किलर ली जा सकती है।, अगर फिर से गर्भधारण नहीं करना है, तो यौन संबंध बनाते समय गर्भनिरोधक जैसे कंडोम आदि का उपयोग करें।, समय-समय पर अपने डॉक्टर से चेकअप करवाते रहें।, शारीरिक के साथ-साथ मानसिक स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें।, लगातार दो दिन तक भारी रक्तस्त्राव होने पर।. मेडिकल गर्भपात के बाद पीरियड शुरू होने का कोई निश्चित समय या हफ्ता नहीं है। ये चार से आठ हफ्ते के बीच कभी भी शुरू हो सकते हैं, वहीं, अगर सर्जिकल अबॉर्शन Gynecologist | 15 years experience. | Pregnancy Me Baigan Khana Chahiye Ya Nahi, डिलीवरी के बाद कमर या पीठ दर्द का इलाज | Delivery Ke Baad Kamar Ya Peeth Dard Ke Upay, प्रेगनेंसी में हरे मटर खाने के 7 फायदे | Pregnancy Me Matar Khane Ke Fayde, आईवीएफ (IVF) क्या है? ... periods date 9 ke hai aur mjhe 2 din periods hote hai hai 3rd day thoda thoda hota rehta hai agr ab mein 4th day or relations banate hu to pregnancy k chances to ni hai na . जी हां, गर्भपात के बाद ऐसा होना सामान्य है, लेकिन इस बारे में डॉक्टर को बताना और जरूरी उपचार लेना आवश्यक है (17)।. Period ke kitne din baad Pregnant nahi hoti hai in Hindi. ... Ji 24 se 28 tak ka samay aap ke sahi rahega physical relation ke liye. Period Ke Kitne din baad Pregnancy hoti hai – Pregnant Kaise Hote Hai. MBBS, MD, कार्डियोलॉजी, सामान्य चिकित्सा, आंतरिक चिकित्सा, BAMS, गैस्ट्रोएंटरोलॉजी, डर्माटोलॉजी, मनोचिकित्सा, आयुर्वेदा, सेक्सोलोजी, मधुमेह चिकित्सक, मासिक धर्म के कितने दिन बाद गर्भ ठहरता है - Periods ke kitne din baad pregnancy hoti hai, मासिक धर्म के कितने दिन बाद गर्भ नहीं ठहरता है - Periods ke kitne din baad pregnancy nahi hoti hai, पीरियड के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी होती है. गर्भपात के बाद भावनात्मक रूप से कैसा महसूस होगा? relation ke kitne din baad pregnancy hoti hai. Nahi hoti hai , lekin pregnancy ke chanches rehte hai, agar aap pregnant nahi hona chahte to protection use kare. Priti on 12-04-2020. मैं गर्भपात के कितने दिन बाद गर्भधारण की कोशिश कर सकती हूं? Aaj is article mein hum isi swal ka jwab aapko btane jar he hain. गर्भपात के बाद खुद की देखभाल कैसे करें? Period Kitne Din Baad Aata Hai? प्रेग्नेंसी का प्रयास करने वाली महिलाओं के मन में अपनी प्रेग्नेंसी को लेकर कई तरह के सवाल होते हैं। अपनी प्रेग्नेंसी को लेकर जहां कुछ महिलाएं खुश होती हैं तो कुछ के लिए यह घबराहट का विषय होता है। प्रेग्नेंसी के बारे में पूरी जानकारी न होने के कारण ही महिलाओं को तनाव होने लगता है। इस दौरान अधिकतर महिलाएं पीरियड के कितने दिन बाद प्रेग्नेंसी होती है, यह जानने के लिए उत्सुक रहती है।, इस लेख में पीरियड्स के कितने दिनों के बाद प्रेग्नेंसी होती है इसके बारे में विस्तार से बताया गया है। साथ ही आपको पीरियड के कितने दिनों के बाद प्रेग्नेंसी नहीं होती है इसके बारे में भी बताने का प्रयास किया गया है।, पीरियड के खत्म होने के तुरंत बाद भी आप प्रेग्नेंट हो सकती है। वैसे इसकी संभवना बेहद कम होती है लेकिन इसके बावजूद भी असुरक्षित यौन संबंध बनाने से आप गर्भवती हो सकती हैं। मासिक धर्म चक्र में किसी भी समय महिलाएं प्रेग्नेंट हो सकती है।, इसके साथ ही आप निम्नलिखित स्थिति में भी प्रेग्नेंट हो सकती हैं, महीने में ऐसा कोई भी सुरक्षित समय नहीं होता है, जिसमें बिना गर्भनिरोधक के सेक्स करने पर गर्भधारण करने का जोखिम न हो।, (और पढ़ें - गर्भनिरोधक इंजेक्शन कैसे उपयोग करें), लेकिन मासिक धर्म चक्र में आपकी प्रेग्नेंसी की संभावनाएं, ओवुलेशन प्रक्रिया में अंडा रिलीज होने के दौरान सबसे अधिक होती है। इसके लिए आपको अपने मासिक धर्म चक्र के बारे में जानना होगा।, पीरियड के पहले दिन से अगले माह के पीरियड के पहले दिन तक की अवधि को मासिक धर्म चक्र कहा जाता है। जैसा कि आपको पहले भी बताया जा चुका है कि ओवुलेशन के समय आपकी प्रेग्नेंसी की संभावनाएं सबसे अधिक होती है। इस समय महिलाओं के शरीर में बनने वाला अंडा उनके अंडाशय से निकलता है। सामान्यतः अगले पीरियड्स के शुरू होने से 12 से 14 दिनों पहले यह प्रक्रिया होती है।, (और पढ़ें - प्रेग्नेंट न हो पाने के कारण), सामान्य रूप से पीरियड के बाद भी आपको प्रेगनेंसी हो सकती है। आवुलेशन प्रक्रिया में अंडा रिलीज होने से पांच दिन पहले से रिलीज होने के समय तक प्रेगनेंट होने की अधिक संभावनाएं होती हैं। लेकिन पीरियड्स शुरू होने के एक सप्ताह पहले और पीरियड्स से पहले दिन से करीब छह दिनों तक के समय में अन्य दिनों की अपेक्षा प्रेग्नेंसी की संभावना कम होती है।, (और पढ़ें - प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए), अगर महिलाओं का मासिक धर्म चक्र बेहद ही छोटा हो (जैसे 19 से 22 दिनों का) तो ऐसे में सेक्स के बाद किसी भी समय प्रेग्नेंसी हो सकती है। सामान्यतः पीरियड्स के तुरंत बाद प्रेगनेंसी नहीं होती है, लेकिन कुछ मामलों में इसके होने की भी संभावना रहती है। इस दौरान आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि सेक्स के बाद स्पर्म महिला के शरीर में करीब 7 दिनों तक सुरक्षित रह सकता है। ऐसे में यदि महिला का मासिक धर्म चक्र छोटा हुआ और जल्द ही ओवुलेशन प्रक्रिया शुरू हो गई तो उसके प्रेग्नेंट होने की संभावनाएं बढ़ जाती है।, (और पढ़ें - प्रेगनेंसी में होने वाली समस्याएं), इसीलिए कहा जा सकता है कि बिना गर्भनिरोधक के सेक्स करने से किसी भी समय गर्भधारण हो सकता है। अगर आप गर्भवती नहीं होना चाहती हैं तो सेक्स के दौरान हमेशा गर्भनिरोधक का उपयोग करें।, आमतौर पर मासिक धर्म आने से 5 दिन पहले संबंध बनाने से प्रेग्नेंसी नहीं होती है। अगर आपका मासिक चक्र 28 से 32 दिनों का है तो आपको मासिक धर्म से 10 से 16 दिन पहले प्रेग्नेंसी के लिए संभोग करना चाहिए।, अगर आपका मासिक चक्र 28 से 32 दिनों का है तो आपके ओवुलेशन की तारीख 14 से 20 के बीच होगी।, अगर आपका मासिक धर्म नियमित है और किसी महीने समय पर पीरियड नहीं आते हैं तो उसके 2 या 3 दिन बाद आप प्रेग्नेंसी टेस्ट कर सकती हैं।, अगर आपका मासिक चक्र 28 से 32 दिनों का है तो आपनेसुरक्षित पीरियड में सेक्स किया था। आपको प्रेग्नेंसी को लेकर कोई आशंका है तो डॉक्टर से बात कर सकती हैं।, अस्वीकरण: इस साइट पर उपलब्ध सभी जानकारी और लेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए हैं। यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा परीक्षण और उपचार के लिए हमेशा एक योग्य चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए।. Pregnancy की अगर बता की जाये तो आपको period cycle के बारे में पता hona चाहिए. miss hone pe kitne din baad test Kare labrotory mein plz suggest Har pati patni is question ka answer janna chahte hain ki period ke kitne din baad pregnancy hoti hai. मैं गर्भपात के कितने दिन बाद गर्भधारण की कोशिश कर सकती हूं? जाने-माने डॉक्टरों द्वारा लिखे गए लेखों को पढ़ने के लिए myUpchar पर लॉगिन करें. अगर जानना है कि प्रेगनेंसी में कम्पलीट ब्लड काउंट टेस्ट क्या है, तो पढ़ें यह लेख। साथ ही जानिए प्रेगनेंसी में सीबीसी टेस्ट क्यों कराया जाता है। गर्भावस्था के कुछ मामलों में ऐसी जटिलताएं आ जाती हैं, जिनकी वजह से गर्भपात कराना जरूरी हो जाता है। यह ऐसी प्रक्रिया होती है, जिसमें दवाइयों या सर्जरी की मदद से भ्रूण को गर्भ से निकाला जाता है। यह समय किसी भी महिला और उनके परिवार वालों के लिए कठिन होता है। इस दौरान महिलाओं को शारीरिक और मानसिक रूप से खास देखभाल की जरूरत होती है। मॉमजंक्शन के इस लेख में इसी मुद्दे पर बात करेंगे। इस लेख के जरिए हम यह जानने का प्रयास करेंगे कि गर्भपात के बाद महिला को किस प्रकार की देखभाल की जरूरत होती है। साथ ही हमने इस लेख में गर्भपात के बाद महिला में शारीरिक और मानसिक बदलाव से जुड़ी लगभग हर जानकारी देने का प्रयास किया है।, सबसे पहले आपको बताते हैं कि गर्भपात के बाद किन लक्षणों का एहसास होता है।. इस बारे में लेख के अगले भाग में जानिए।, गर्भपात के बाद अधिक रक्तस्त्राव होने पर गर्भाशय की सफाई करने की जरूर पड़ सकती है। इस प्रक्रिया को डाइलेशन और क्यूरेटेज (Dilation and Curettage) या फिर डी & सी कहा जाता है। यह ऐसी प्रक्रिया है, जिसमें गर्भाशय की अंदरूनी सतह से टिश्यू निकाले जाते हैं। इस प्रक्रिया में गर्भाशय ग्रीवा में चम्मच जैसा टूल डाला जाता है और असामान्य टिश्यू बाहर निकाले जाते हैं। साथ ही इसकी मदद से अंदर हुए किसी भी प्रकार के संक्रमण की जांच भी की जा सकती है (8)।, लेख के अगले भाग में आप गर्भपात के बाद होने वाली माहवारी के बारे में जानेंगे।, मेडिकल गर्भपात के बाद सामान्य माहवारी शुरू होने का कोई निश्चित समय नहीं है। ये चार से आठ हफ्ते के बीच कभी भी शुरू हो सकते हैं (9)। वहीं, अगर गर्भपात सर्जिकल तरीके हुआ है, तो पीरियड्स शुरू होने में चार से छह हफ्ते लग सकते हैं (10)। साथ ही ध्यान रहे कि प्रेगनेंसी की ही तरह सभी की गर्भपात की अवस्था भी एक समान नहीं होती। ऐसे में अगर आठ हफ्ते बाद भी सामान्य रूप से पीरियड्स नहीं आते हैं, तो इस बारे में डॉक्टर से सलाह जरूर करें।, गर्भपात के बाद पति-पत्नी शारीरिक संबंध बनाने को लेकर अक्सर संशय में रहते हैं। आर्टिकल के अगले हिस्से में हम इसी मुद्दे पर बात कर रहे हैं।, जैसा कि हम लेख में ऊपर बता चुके हैं कि गर्भपात के बाद रक्तस्राव होना आम बात है। ऐसे में रक्तस्राव के पूरी तरह बंद हो जाने के बाद ही यौन संबंध बनाने की सलाह दी जाती है (7)। गर्भपात के बाद कम से कम एक हफ्ते तक यौन संबंध न बनाने का सुझाव दिया जाता है। साथ ही यह ध्यान रखना भी जरूरी है कि गर्भपात होने के बाद गर्भनिरोधक के प्रभावशाली माध्यमों का उपयोग किया जाए। साथ ही शारीरिक संबंध बनाने से पहले एक बार डॉक्टर से इस बारे में चर्चा कर लेना भी उचित विचार होगा (9)।, आगे जानिए कि गर्भपात के कितने दिन बाद गर्भधारण करने के बारे में सोचना चाहिए।, महिला गर्भपात के तुरंत बाद फिर से गर्भवती हो सकती है, लेकिन बेहतर यही होगा कि इस बारे में पहले डॉक्टर की सलाह जरूर ली जाए (9)। एक शोध में पाया गया है कि गर्भपात के तीन महीने या उससे कम समय में दोबारा गर्भधारण करने की कोशिश करने वाली महिलाओं की गर्भावस्था सामान्य गर्भावस्था की तरह ही सुरक्षित होती है। शोधकर्ताओं का मानना है कि गर्भपात के एक साल या उससे ज्यादा समय के बाद कोशिश करने वाली महिलाओं को गर्भधारण करने में समस्या हो सकती है (11)।, लेख के अगले भाग में हम बता रहे हैं कि गर्भपात के बाद होनी वाली थकान को कैसे दूर किया जाए।. गर्भपात के बाद पेट/कमर दर्द हो, तो क्या करें? नीचे बताई गई बातों को ध्यान में रखकर गर्भपात के बाद महिला खुद का ध्यान रख सकती है (12) : गर्भपात के बाद अपने खान-पान का ध्यान रखना भी जरूरी है। इससे जुड़ी जानकारी लेख के अगले भाग में दी गई है।. Yaha tak ki is wakt unka behavior bhi chidchida ho jata hai. पीरियड कितने दिन बाद आता है? Vo har samay na keval apne hone vale bacche ka balki apne swasth ke bare me bhi sochti hai. Top 10 Musical Instrument Crafts For Kids, क्या प्रेगनेंसी में बैंगन खाना सुरक्षित है? mc ke kitne din baad pregnant hoti hai . | Abortion Ke Kitne Din Baad Sambhog Karna Chahiye. By Gk Exams at 2018-03-25. गर्भावस्था की तरह गर्भपात के बाद भी आहार का ध्यान रखना जरूरी है, जो इस प्रकार है : जैसा कि हम आपको बता चुके हैं गर्भपात के दौरान रक्तस्राव होना आम बात है। इससे एनीमिया की समस्या हो सकती है। ऐसे में आयरन से युक्त आहार का सेवन करने से फायदा मिल सकता है। आयरन शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं (Red Blood Cells) को बनाने में मदद करता है, जिससे खून बढ़ाने में मदद मिल सकती है। आयरन के लिए नीचे बताए गए खाद्य पदार्थों को आहार में शामिल किया जा सकता है (13) : विटामिन-सी शरीर में आयरन का अवशोषण (absorption) करने में मदद करता है। इसलिए, आयरन युक्त आहार के साथ पर्याप्त मात्रा में विटामिन-सी का सेवन करना भी जरूरी है। साइट्रस फल विटामिन-सी के अच्छे स्रोत होते हैं। ऐसे में नीचे बताए गए फलों का सेवन किया जा सकता है (13) : गर्भपात के बाद मानसिक स्वास्थ्य का ध्यान रखना उतना ही जरूरी है, जितना शारीरिक स्वास्थ्य का ध्यान रखना है। इस दौरान अवसाद ऐसी समस्या है, जो आसानी से मन में घर कर सकती है। मैग्नीशियम युक्त आहार इससे बचने में मदद कर सकते हैं। मैग्नीशियम युक्त आहार एंग्जायटी, नींद न आना व चिड़चिड़ापन आदि से आराम पाने में भी मदद कर सकते हैं (14)। मैग्नीशियम का स्तर बढ़ाने के लिए नीचे बताए गए खाद्य पदार्थों को आहार में शामिल किया जा सकता है (15) : गर्भपात के बाद चॉकलेट का सेवन करना फायदेमंद हो सकता है। ब्रिटिश जर्नल ऑफ क्लिनिकल फार्माकोलॉजी के एक शोध में यह पाया गया है चॉकलेट मूड को ठीक करने और चिंता को कम करने में मदद कर सकती है। चिंता में चॉकलेट का सेवन करने से फायदा मिल सकता है। चॉकलेट में उच्च मात्रा में फ्लावोनोइड पाए जाते हैं, जो दिमाग के लिए भी फायदेमंद हो सकते हैं (16)।, गर्भपात के संबंध में अन्य जानकारी के लिए पढ़ते रहें यह लेख।. गर्भपात के बाद महिला में शारीरिक के साथ-साथ भावनात्मक रूप से भी बदलाव आते हैं, जो सामान्य हैं। ये लक्षण कुछ इस प्रकार के हो सकते हैं (5): गर्भपात के बाद ऊपर बताए गए भावनात्मक बदलाव आना सामान्य हैं। इनके अलावा, कुछ मामलों में ये बदलाव महिला के दिमाग पर गहरा असर डाल सकते हैं, जिनके चलते नीचे बताई गई समस्याएं हो सकती हैं (6) : नोट : किसी भी प्रकार की मानसिक अस्थिरता के बारे में डॉक्टर को बताना और समय पर इलाज करवाना जरूरी है।, लेख के अगले भाग में आप गर्भपात में रक्तस्राव के बारे में जानेंगे।, गर्भपात के बाद योनी से रक्तस्राव (ब्लीडिंग) होना सामान्य बात है। यह एक आम लक्षण है और किसी भी प्रकार के अबॉर्शन (मेडिकल या सर्जिकल) के बाद लगभग दो हफ्तों तक ब्लीडिंग होना सामान्य है। सर्जिकल गर्भपात (सर्जरी के माध्यम से हुए) के बाद हल्का रक्तस्राव होता है, जबकि दवाइयों की मदद से हुए एबॉर्शन में लगभग 9 दिन तक रक्तस्त्राव हो सकता है। कुछ दुर्लभ मामलों में यह 45 दिन तक हो सकता है (7)।, क्या गर्भपात के बाद गर्भाशय की सफाई करवाना जरूरी होती है? Sex During Pregnancy in Hindi: Pregnant mahilaye garbhavastha ke douran bahut satark ho jati hai. यदि आपके मासिक धर्म चक्र की लंबाई 28 दिनों से कम है, तो आपके उपजाऊ दिन आपके चक्र के नौ दिन पहले शुरू हो जाएंगे. Kisi ko har 28 din me kisi ko 30-32 din baad haez shuru hota hai. क्या आप पीरियड के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी होती है, हो सकती है, चांस होते हैं, प्रेग्नेंट हो सकती हैं या नहीं हो सकती है के साथ Periods ke kitne din baad pregnancy ko sakti hai… गर्भपात के बाद कमजोरी महसूस हो तो क्या करें? | Garbhpat Ke Bad Motapa, मोटापा अस्वस्थ जीवनशैली की वजह से हो सकता है, लेकिन ऐसा कोई शोध उपलब्ध नहीं है, जिससे यह प्रमाणित हो सके कि गर्भपात के बाद मोटापा आता है।, गर्भपात के बाद का समय पति-पत्नी के लिए कठिन होता है। ऐसे में उन्हें एक दूसरे का सहारा बनना जरूरी होता है। इस कठिन समय का एक-दूसरे से प्यार, आपसी समझ और संयम के साथ मुकाबला किया जा सकता है। घर के अन्य सदस्यों के लिए जरूरी है कि महिला की शारीरिक व मानसिक स्थिति पर ध्यान दिया जाए और उसका आवश्यक उपचार किया जाए। इसके अलावा, किसी भी तरह का उपचार करने या दवा लेने से पहले डॉक्टर से परामर्श कर लेना बेहतर होगा।. Is samay sex ke prati unki desire bilkul na ke barabar hoti hai. Baccha Hone Ke Baad Kitne Din Baad Period Aana Chahiye? ... Ji period ke dauran pregnancy hoti hai aur iske turant baad sex karne se pregnancy nahi hoti yeh sab galat faimi hai. See a medical professional for personalized consultation. Garbhdharan ke 4 hafte baad aap sex kar sakte hain or uske baad agar koi dard ya takleef hoti hai to aapko aram se sex karna hai. All rights reserved. गर्भपात के बाद इन लक्षणों का अनुभव होना सामान्य है. गर्भपात से गुजरने के बाद महिलाओं को कुछ शारीरिक लक्षणों के अनुभव होते हैं, जो सामान्य है। ये लक्षण कुछ इस प्रकार हो सकते हैं : गर्भपात के बाद के लक्षण हर महिला के लिए एक समान नहीं होते। कुछ मामलों में ये सामान्य से अधिक हो सकते हैं। ऐसे में गायनेकोलॉजिस्ट को तुरंत दिखाना जरूरी होता है।, लेख के अगले भाग में जानिए कि गर्भपात से पूरी तरह ठीक होने में कितना समय लगता है।, गर्भपात से पूरी तरह ठीक होने का समय प्रत्येक महिला की अवस्था पर निर्भर करता है। इसके अलावा, यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि गर्भावस्था के किस हफ्ते में गर्भपात किया गया है। गर्भावस्था जितनी लंबी रही होगी, गर्भपात से पूरी तरह उबरने में उतना ज्यादा समय लगेगा (3)। साथ ही शोध में यह भी पाया गया है कि कुछ मामलों में यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि गर्भपात करवाने का कौन-सा माध्यम चुना गया है। दवाइयों की मदद से किए गए गर्भपात में ज्यादा दर्द होता है और ये कम प्रभावशाली होते हैं। वहीं, वैक्यूम की मदद से किए गए गर्भपात अधिक प्रभावशाली होते हैं (4)। इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए।, आगे आप गर्भपात के बाद महिला में आने वाले मानसिक बदलाव के बारे में जानेंगे।. relation ke kitne din baad pregnancy hoti hai October 25, 2020. Period ke kitne din baad sex kar ke pregnant na ho. sir ji meri mangetar (GF)aur main thode din baad kisi dharmik place par jane ka plan hai lekin use dar hai ki tik unhi dino me uska time start na ho jaye..jabki hamri taiyari puri hai kya uske date ko 2- 4 din ke liye tala ja skta hai aur kaise jaurur bataiyega

Gryffindor Makeup Palette, Best Ent Specialist In Trichy, Chocolate Chip Bundt Cake No Sour Cream, Murphy Zip Code, Broad River Water Level Near Boiling Springs, Nc, Yakima Cross Bars, Pediatrician Salary Reddit, Song Of Songs Summary, Weber Performer Grill,